Piyush Goel - Mirror Image Man of India

Piyush Goel is popularly known as “Mirror Image Man” by the media and the






Writer of “World First Handwrite Needle Book ‘Madhushala’.Piyush Goel has written several books in Mirror Image including Bhagavad Gita, Sundara Kand from Ramcharitmanas, Sai Satcharitra, Durga Saptashati, Meri Ikyavan Kavitayein by Atal Bihari Vajpayee, the former Prime Minister of India. He also wrote the world’s first Bhagavad Gita in Mirror Image style reportedly by Hindustan times.


In a candid conversation Piyush Goel talks about his journey, writings, mirror-image books, and his book “Sochana too Padega hi”, is a book of his own 110 Motivational Thoughts.

Piyush Goel was born on 10th Feb 1967 in the lap of Mother Ravi Kanta and Father Dr. D.K. Goel. Piyush Goel always believes in new Creation and Imagination, by profession, he is a Mechanical Engineer but by passion, he is Motivator, Cartoonist, Local Cricket Umpire, and Mirror Image Writer. He has experience of more than 25 years in Various Companies.


His three mathematics papers were published in International Research Journal. In mirror image style he has written16 Books from 2003 to 2015. Some of the books are ShreeMadbhagwad Gita, Madhushala, Gitanjali, ChankayaNiti, Shree Sai Satcharitra, Shree Durga Kavach (Sanskrit Language), Panchtantra and Piyush Vaani with different objects like Pen, Needle, Mehandi Cone, Carbon Paper, Iron Nail, Wooden Pen, and Fabric Cone Liner. सोचना तो पड़ेगा ही” पुस्तक के बारे में।



“सोचना तो पड़ेगा ही” ये पुस्तक हर उस इंसान को पढ़ना चाहिए जो अपनी जिंदगी में सफल होना चाहते है। ये पुस्तक आपको हर वक़्त मोटीवेट रखेगा। इस पुस्तक में कुल 110 थॉट्स है उसमेसे में आपको इस आर्टिकल में 20 थॉट्स बताने जा रहा हु जो आपको पढ़ने चाहिए।





पियूष गोयल ने बोहोत ही अच्छे तरीके से लोगोको बताया है की अपने काम के प्रति सेल्फ मोटीवेट कैसे रहे।

20 थॉट्स –


1.जिंदगी को अगर किसी का सहारा लेकर जिओगे एक दिन हारा हुआ महसूस करोगे.


2.किसी काम की करने की नियत होनी चाहिए टालने से काम नहीं चलने वाला.


3.आपके सपनो में बहुत के सपने छिपे हैं …अपने सपने पुरे करो.


4.सोचना मेरी आदत…लगन मेरा समर्पण….जिद्द मेरी सफलता.


5.जिनकी नींव मजबूत उनकी विन(win) निश्चित हैं


6.मेरे लिए आलोचना करना चना चबाने जैसा हैं


7.चुनौतियों की चिंता न करो चिंतन करो चुनौतियां हर समय किसी न किसी रूप में आपके साथ चल रही हैं


8.उतनी इच्छायें पालो जीतनी पा लो


9.जो संघर्ष करते हैं वो जानते हैं मेहनत का कोई विकल्प नहीं हैं.


10.अगर आपके कदम में दम हैं आपका कद कभी छोटा नहीं होगा क(दम)… (कद)म.



11.जिंदगी में सीखने का मौका जहाँ भी मिले अवश्य सीख लो पता नहीं कहाँ काम आ जाये और साथ साथ साझा भी करते चलो पता नहीं कब किसके काम आ जायें.


12.जो कामयाबी बहुत प्रयासों के बाद मिलती हैं उसका एहसास अतुलनीय हैं.


13.हर काम पहले मुश्किल दिखता हैं पर होता नहीं


14.लगातार प्रयास करना मेरा काम हैं और मैं प्रयास करता रहूँगा जब तक मैं कामयाब न हो जाऊं.


15.कुछ नहीं करना बस जिंदगी की तराजू को बराबर तोलते चलो.


16.लालसा काम लगन पक्की लक्ष्य एक.


17.अपनी काबिलियत को पहचानो समझौता नहीं.


18.घडी की जो टिक टिक हैं यूँ ही नहीं हैं वो बार बार टोकती हैं खड़ा हो जा अभी बहुत कुछ हैं करने के लिए.


19. सच को कुछ समय के लिए ढक सकते हो छुपा नहीं सकते.


20.पढ़ लो…. लिख लो…. याद कर लो नहीं तो …पीछे मुड़ मुड़ कर देखना पड़ेगा.